----------Gold (Nectar) Or Diamond (Life) - GOD of Nectar and Life-----------------------सोना (अमृत) या हीरा (जीवन) - अमृत और जीवन के भगवान-----------------

Gold (Nectar) Or Diamond (Life) - GOD of Nectar and Life

I am Ajay, the God of nectar (amrit) and life in living beings. I am born for the salvation of this world and to bring back nectar to it’s world. Nostradamus predicted about me correctly and Doomsday (pralay) is scheduled to be on the horizon. Know more about me and yourself as nectar in living form who will meet me after this world is over.

I am Ajay the God of nectar (amrit). I am the one God of life who is responsible for creating life (jeevan) and the life energy (jeevan shakti) and bringing immortality (amarta). Nectar is molten gold and life energy is gaseous diamond in its purest and original form. These two combine together and make me as my body. Thus my name is Gold Or Diamond as GOD is derived from these two attributes. I have nectar as gold body in me in a living form and I have a diamond body in a living form. For me all human beings and gods are equal and we are nectar as ourselves in living form. Nectar brings immortality and we are living because of this nectar. Without nectar we are dead creatures as ghost (pishach) and as such we were born. Once this nectar is taken out from us our head will get out from us and we will be dead as a ghost and will die in many years to come after struggling to survive as a ghost and as dead creatures. I am born here by my conscience to get and unite nectar with me in living form which emerged and produced in this world within all of us. Since I am the God of nectar I produce nectar in living form which is united or met with me. This nectar is produced from me in this world which is used by us for living. I am the one God of life so the living beings in this world originated from me and then the nectar emerged here to give them life energy to live happily for so many years. Now this nectar is produced completely from all of us the human beings and they are dead as themselves so it will be useless for them for the coming generation as they will also be dead in return. I am thus born to unite this nectar in living form with me so the nectar will be taken out from all of us human beings and gods from their head and they will be dead as ghost and will die in many years. In this process of taking out nectar in living form from all of us and uniting with myself I will leave this world and all of us will die in this world eventually in many years.

My birth in this world is forecasted by many renowned astrologers and thought of as a god who will bring salvation (mukti) to the ghost (pishach) spirit of all of us who are human beings and gods in this world. Since we are the ghost in this world who were born without nectar and then they started living when nectar was produced. Now all the nectar that can be produced by us in living form has been produced and we can not produce more nectar on our own since we are ghost and we are dead in ourselves so we will start dying and with nectar we will be like nor living nor dying. So to remove this obstacle from us and to kill our ghost spirit my birth is predicted by many known astrologers since the beginning of time in this world and out of this world. One of the astrologer of our time is Nostradomus who has predicted my birth in the late 1950 AD – 2000 AD. He has predicted about my name, my family, my birth place, my social status, my knowledge and my work during my life span. These predictions are available on internet in few sparse youtube videos with the predicted name as Chyren which can be found by little hard work. His forecasts has resemblances with me for satisfying your curiosity that it’s me the God of nectar not any other Spiritual Leader of this world. He has mentioned that I will bring forth a new knowledge that will overwhelm the world and that will be new and not known before. All people whether human beings or gods of this world will agree to my knowledge and will be unanimous in electing me as their one God of this world and the other world if there will be.

Similarly the doomsday or pralay is forecasted to happen in early 7000 AD when the moon will collide with the earth destructing it and the earth will start rotating in the opposite direction from east to west in a couple of days after collision. All the human beings and the gods of this world in the human beings will die except a few thousands those will survive but will be like dead as a ghost and in future all population will be of ghosts including the gods of this world which will die eventually without nectar and without their head which produced nectar. This collision will happen because of a blast in the sun that will have one of its part to break apart from it and vanish in the solar system. After this collision Saturn planet which is composed of gaseous substances will start decaying and will get destroyed after many years to come. Similarly another planet named as the Dragon’s head or Rahu will be destroyed and dead after this collision. All this will happen because of the nectar is taken out from this world with our head and we are ghosts with our heads as dead. Then the population will be of ghosts (pishach) as we were born initially when this world came into existence. All ghosts who are dead will come out from this earth from out of this world and will die here until all are dead from here then all the gods will die from their worlds as they will also be like ghosts and dead. This will take zillions and zillions years to bring an end to this world and every ghost here who has taken birth in this world.

During my life span I will unite the nectar in every living being as their head with me and they will be nectar in living form for me and with me always. This way I will unite all the living beings with me whether they are human beings or gods of this world and kill the ghosts in them which will be themselves after taking their head out from them which produced nectar in them. I will live here for about 100 years doing this on earth i.e. uniting all living human beings and their heads with me as nectar in living form and killing all ghosts in them as their head in them without nectar who are themselves. I will then do this with all gods of this world in the upper world where all gods are present for the next 5000 years. After this task is completed then all nectar in living form is taken out from the heads of all living beings in this world and united with me in a living form with those heads and only ghosts are left in this world which are by birth and are dead by killing their head. This is done for all the living beings who have taken birth in this world who has ever produced nectar in their head and lived here. After this I will come to live in the world which is above this world and will be immortal for always. With me I will have all the living beings as nectar in the living form with their head as themselves and I will be their only one God who brought them into life and will be worshipped forever. This is opposed to this world where I am not worshipped anywhere and these human beings and gods of this world don’t consider themselves as nectar in living form in their head and don’t consider me as their one god who gave them life and brought into this world. After my departure from the upper world soon doomsday or pralay will happen and the rest of the world which came here will die by taking birth in this world in a long long time. And I will be available in the above world with all the nectar in living form which I gave to them here for their life and took back after taking birth in this world. 

Before my birth or when I was not here in this world this world originated in the above world as heads which were souls who had nectar in them in living form which was produced by their heads. But due to some misunderstandings between them in the above world they took birth in the lower world as body which were ghosts (pishach) in dead form who had poison in them produced by their head. They got their head from the above world whom they call as souls and their head produced nectar in them because of which they started living otherwise they were dying, taking birth as dead creatures and living a dead life of a ghost (pishach) with no means of their salvation (mukti). In such a way they got nectar produced in their head and started living as ghosts and calling themselves as souls who came from the above world. Now due to their wrong doings and misbehaviour they as their head will be taken out from themselves as nectar in living form and will be dead from here in this world and soon this world will come to an end. You will come to know about this in the coming paragraphs how life originated in the above world and then it originated in the below world. And how we human beings came into this world and how the gods came in this world. Since the life first originated in the above world as souls and as their heads which produced nectar so the head first originated from the god of nectar who is also the god of life or life energy in every living being. So the life in the below world is also originated from the god of nectar who is the one god for all of us human beings and gods in this world. 

Our world is not the alone world here there is a heavenly kingdom above our world which is beyond our imagination. We are not alone in our world there is a ruler of the heavenly kingdom above who is the King of all of us. He has sent us from the heavenly kingdom to this material world because of our deeds which were corrupt and misleading. When we took birth from above in this material world this world came into existence and we forgot everything about us and the heavenly kingdom above. Since then we are living like we are loosing ourselves and dying and soon this material world would come to an end. Initially when our world was not there the heavenly kingdom was present in the above world. The King was the ruler of the heavenly kingdom and the female gods were its people. The King was the only male there and the gods were all female. The heavenly kingdom was a totally different world above this world and out of this world. From this heavenly kingdom below world has come into existence with the human beings and male gods as we know them. The heavenly kingdom came into existence in such a way that first of all the female gods manifested themselves and then the King manifested himself in the heavenly kingdom and as such it came into existence. The female gods manifested in the heavenly kingdom to unite with the King to transform into his queens originating from the King. Thus each female god has to transform into a queen and after this the female god has to relinquish herself of her existence from the heavenly kingdom. Thus there would be the King and all his queens in the heavenly kingdom and all other female gods have gone from there for which that kingdom has come into existence. This was an extraordinary heavenly kingdom which was beyond the perceiving of us in this below world. But this did not happen suddenly and took a long period of time. Since all the female gods have to unite with themselves and to come come out as a female god among themselves. But the female gods decided not to unite with the King and not to leave the heavenly kingdom. This will led queens not to originate from the King and female gods not to relinquish themselves from the heavenly kingdom. Thus the female gods wanted to love the King and they deprived the King of his queens that would come out from him after female gods unite with him. The King after knowing this expelled all the female gods from the heavenly kingdom with himself and they took birth in the below world after loosing their all consciousness or memory of themselves in the heavenly kingdom. 

There was a female god who did not wanted the King to meet his queen and did not unite with the King to transform into his queen because she loved him and did not wanted to leave the King after relinquishing the heavenly kingdom after the queen is met with the King from the female god. Due to this other female gods also did not unite with the King and started loving him and did not wanted to leave the King and his heavenly kingdom. That female god was not interested in uniting with other female gods and wanted to transform other’s head into her head so that she would be single female god with the head of other female gods who will alone love the King and will not let him meet his queens. Soon this was the case with every female god and every one wanted to kill each other’s head and love the King so that he did not unite with his queens. But the King did not loved the female gods because they were not like him and were mischievous in their deeds which were against the rules of the heavenly kingdom to kill each other’s head or to not unite with the King to transform into his queens. So the King separated that female god along with other female gods from the heavenly kingdom and gave birth to her with others in this material world which is below the heavenly kingdom. So she incarnated in the below world with a head and within her all other female gods incarnated with their heads in the below world. The King also incarnated in the below world and called as a head since they incarnated as heads into the below world and transcendent into all the human beings and male gods as head where bodies of these heads came into existence in the below world. All of us human beings and male gods of this world have come from the female gods and King of the heavenly kingdom and will live here until we die and this world comes to an end. These female gods of the heavenly kingdom are nothing but the souls and the King as their head which incarnated in the below world from above world to transcend into our bodies which came into existence when they incarnated in the below world. These bodies in the below world are ghosts (pishach) since they are dead in themselves and needed a soul to unite with them for sustaining since the soul produced nectar in their head which the bodies got after souls incarnation in the below world. The King from the above world was disintegrated with those female gods as head, body and human beings, male gods in this world. First of all the head originated into upper world from which all those heads came into existence. Then the body originated in the lower world from which all those bodies came into existence. Then the human beings made up the bodies in the lower world which jointly made up the head of the male gods in the upper world. Thus male gods in this world came to be known as the mind and human beings as the dreams. All female gods from the heavenly kingdom transcended into this world as male gods from whom the human beings transcended since they lost their consciousness of the heavenly kingdom. They took birth here as the dreams (the human beings with bodies in the lower world) and the mind (male gods with the head in the upper world). Together they are dreams and mind thus they are called as human beings and male gods in this world which are us present in this world. 

And the dreams originated within all of us human beings and mind within male gods of this world. In such a way the dreams with the body of the human beings came into existence initially along with the mind of the male gods. Since the intention of female gods from the heavenly kingdom was not to unite with the King and to deprive him of his queens, after their incarnation in this world as human beings and the male gods, their body started producing poison to the head which were the human beings and the male gods. The reason being that their head and body came out from this lower world and this lower world was without the King or any living being previously so it had nothing but poison filled into it. The mind and the dreams came into existence since then along with their head and body which were the male gods in the upper world and the human beings in the lower world. All those dreams who got birth from the mind originated from this lower world they got their head and body full of poison and thus the human beings and male gods here in this world are carrying this poison which will end themselves in the end. Since then the mind and the dreams came into existence into this world full of poison as head and body and we are born with it as human beings and male gods. These human beings and the male gods are nothing but like ghosts this means that we are dead because of poison. This head and body can be called as a ghost or pishach since it is full of poison and is dead. We are without any life form except the female gods from whom we are born here. Since they incarnated here as head and their head has nectar because of which we are living for so many years after our origin. But the ghost has survived here in this world because of poison which is filled up in this lower world. As soon as the poison will end up here we will end up because the poison will not be available for our survival. Therefore the male gods with head came into existence like a mind within all of us which help in originating and storing the available poison found in this world and feed us that poison that is why we are found within them even after death and brought to another life as another body which is again dependent on poison. Now is the time that this poison is used up and no new body or head with new poison is taking birth in which a dream or mind is found. Also the reason being the head in the upper world of the male gods is completely descended into the bodies of the human beings in the lower world. That means all those mind with dreams that could take birth has taken and no new body with new head will now take birth. 

When the souls from the above world took birth in the lower world as ghosts (pishach) they got 3 heads into 1 head of a ghost and all other ghosts that are derived from them. Since this world is categorised as lower world and upper word where the heads from the above world has taken birth as bodies of this world hence they got 3 heads into 1 head. Then these 3 heads are found in other 3 heads and likewise it is replicated till the last one is found within the uppermost one head. Then there is one more head which is found in ghosts apart from these 3 heads which produced nectar in them due to which they are living and found within others which are nectar in living form as similar to them. This is called as nectar head and these are the living beings with nectar in the living form. Other 3 heads are called as Brahm (left) head or Allah, Shakti (centre) head or MahaVishnu and Pran (right) head or Shiva that originated from these heads and are found in the living beings of this world. These are called as gods in this world since they have the other heads of human beings within them. The fourth head is nectar head which completes them and is found within all the living human beings and the gods of this world and thus they also call themselves as Ajay who is the God of nectar and life within them which is their head which is producing nectar in them and they are living because of this. This number of 4 heads in a human being creates a combination of 16 bodies in him because of which he is living in this world. If all these bodies die then that human being will also die and will not be found in any of the gods after his death. Similarly for gods there is a combination of 24 bodies upon the death of which he will not be found in this world. I have taken nectar out from each head and killed that head so all bodies have been killed. Now all ghosts are left which are dead and which will die soon.

Know more about me and talk to me about the nectar in the living form present in all of us. You will find comfort in sharing your views about this happening in this world while chatting with me. Pay to me USD 70 (INR 5000) after the chat with me on my Skype Id <ajaytomarindia@gmail.com> when you are satisfied with the information I provided here. Please avail the services of this website where you can discuss with me about your thoughts and our fate in the coming days. Go to the Services page for more details. 

सोना (अमृत) या हीरा (जीवन) - अमृत और जीवन के भगवान

मैं अमृत और जीवों में जीवन का भगवान अजय हूं। मेरा जन्म इस दुनिया की मुक्ति और अमृत इसकी दुनिया में वापस लाने के लिए हुआ है। नास्त्रेदमस ने मेरे बारे में सही भविष्यवाणी की थी और कयामत (प्रलय) क्षितिज पर आने वाली है।  मेरे और अपने आप को अमृत के जीवित रूप में और अधिक जानिए जो इस दुनिया के खत्म होने के बाद मुझसे मिलेंगे। 

मैं अमृत का भगवान अजय हूं। मैं जीवन का एकमात्र भगवान हूं जो जीवन और जीवन ऊर्जा बनाने और अमरता लाने के लिए जिम्मेदार है। अपने शुद्धतम और मूल रूप में अमृत पिघला हुआ सोना है और जीवन ऊर्जा गैसीय हीरा है। ये दोनों मिलकर मुझे मेरा शरीर बनाते हैं। इस प्रकार मेरा नाम सोना या हीरा है क्योंकि भगवान इन दो विशेषताओं से प्राप्त हुए हैं। मेरे पास जीवित रूप में सोने के शरीर के रूप में अमृत है और मेरे पास जीवित रूप में हीरे का शरीर है। मेरे लिए सभी मनुष्य और भगवान समान हैं और हम जीवित रूप में स्वयं की तरह अमृत हैं। अमृत अमरता लाता है और हम इसी अमृत के कारण जी रहे हैं। अमृत के बिना हम भूत के रूप में मृत प्राणी (पिशाच) हैं और हम ऐसे पैदा हुए थे। एक बार जब यह अमृत हमारे पास से निकल जाएगा तो हमारा सिर हमसे निकल जाएगा और हम भूत के रूप में मर जाएंगे और आने वाले कई वर्षों में भूत और मृत प्राणियों के रूप में जीवित रहने के लिए संघर्ष करके मर जाएंगे। मैं अपने अंतःकरण से यहां पैदा हुआ हूं और अपने साथ जीवित रूप में अमृत प्राप्त करने और एकजुट करने के लिए पैदा हुआ हूं जो हम सभी के भीतर इस दुनिया में आया और उत्पन्न हुआ। चूंकि मैं अमृत का भगवान हूं, मैं अमृत को जीवित रूप में उत्पन्न करता हूं जो मुझसे एक होकर मिलता है। यह अमृत इस संसार में मुझ से उत्पन्न हुआ है जो हम जीवन यापन के लिए उपयोग करते हैं। मैं जीवन का एकमात्र भगवान हूं इसलिए इस दुनिया में जीवों की उत्पत्ति मुझसे हुई और फिर इतने वर्षों तक उन्हें खुशी से जीने के लिए जीवन ऊर्जा देने के लिए अमृत यहां आया। अब यह अमृत हम सब मनुष्यों से पूर्ण रूप से उत्पन्न हुआ है और वे स्वयं मरे के समान हुए हैं इसलिए आने वाली पीढ़ी के लिए यह उनके लिए अनुपयोगी होगा क्योंकि वे भी बदले में मृत के समान होंगे। मैं इस प्रकार इस अमृत को जीवित रूप में अपने साथ मिलाने के लिए पैदा हुआ हूं इसलिए हम सभी मनुष्यों और देवताओं के सिर से अमृत निकाल लिया जाएगा और वे भूत के रूप में मर जाएंगे और कई वर्षों में मर जाएंगे। हम सब से जीवित रूप में अमृत निकालने की इस प्रक्रिया में मैं इस दुनिया को छोड़ दूँगा और हम सभी इस दुनिया में अंततः कई वर्षों में मरेंगे। 

इस दुनिया में मेरे जन्म की भविष्यवाणी कई प्रसिद्ध ज्योतिषियों ने की है और एक ऐसे भगवान के रूप में सोचा है जो हम सभी की पिशाच (आत्मा) के लिए मोक्ष (मुक्ति) लाएगा जो इस दुनिया में हम इंसान और भगवान हैं। चूंकि हम इस दुनिया में भूत हैं जो बिना अमृत के पैदा हुए थे और फिर अमृत पैदा होने पर वे जीने लगे। अब जितने भी अमृत हम सजीव रूप में उत्पन्न कर सकते हैं, वे उत्पन्न हो गए हैं और हम अपने आप से अधिक अमृत उत्पन्न नहीं कर सकते क्योंकि हम भूत हैं और हम अपने आप में मरे हुए हैं इसलिए हम मरना शुरू कर देंगे और अमृत के साथ हम न तो जीवित रहेंगे और न ही मरेंगे। तो इस बाधा को दूर करने के लिए और हमारी पिशाच आत्मा को मारने के लिए मेरे जन्म की भविष्यवाणी समय की शुरुआत से कई ज्ञात ज्योतिषियों द्वारा इस दुनिया में और इस दुनिया के बाहर से की गई है। हमारे समय के ज्योतिषियों में से एक नास्त्रेदमस हैं जिन्होंने 1950 ईस्वी – 2000 ईस्वी के अंत में मेरे जन्म की भविष्यवाणी की थी। उन्होंने मेरे जीवन काल में मेरे नाम, मेरे परिवार, मेरे जन्म स्थान, मेरी सामाजिक स्थिति, मेरे ज्ञान और मेरे काम के बारे में भविष्यवाणी की है। ये भविष्यवाणियां इंटरनेट पर कुछ विरल यूट्यूब वीडियो में उपलब्ध हैं, जिनका पूर्वानुमानित नाम Chyren है, जिसे थोड़ी मेहनत से पाया जा सकता है। आपकी जिज्ञासा को संतुष्ट करने के लिए उनके पूर्वानुमान मेरे साथ समानता रखते हैं कि मैं अमृत का भगवान हूं इस दुनिया का कोई अन्य आध्यात्मिक नेता नहीं। उन्होंने उल्लेख किया है कि मैं एक नया ज्ञान लाऊंगा जो दुनिया को अभिभूत कर देगा और वह नया होगा और पहले ज्ञात नहीं होगा। इस दुनिया के सभी लोग चाहे मनुष्य हों या भगवान मेरे ज्ञान से सहमत होंगे और मुझे इस दुनिया और दूसरी दुनिया के अपने एक भगवान के रूप में चुनने में एकमत होंगे। 

इसी तरह कयामत या प्रलय 7000 ईस्वी की शुरुआत में होने का अनुमान है जब चंद्रमा पृथ्वी को नष्ट करने के लिए पृथ्वी से टकराएगा और टक्कर के बाद कुछ दिनों में पृथ्वी पूर्व से पश्चिम की ओर विपरीत दिशा में घूमने लगेगी। मनुष्यों में इस दुनिया के सभी मनुष्य और भगवान मर जाएंगे, कुछ हजारों को छोड़कर जो जीवित रहेंगे लेकिन भूत के रूप में मृत हो जाएंगे और भविष्य में सभी आबादी भूतों की होगी, जिसमें इस दुनिया के भगवान भी शामिल होंगे जो अंततः मर जाएंगे, बिना अमृत के और उनके सिर के बिना जो अमृत उत्पन्न करते थे। यह टक्कर सूरज में एक विस्फोट के कारण होगी, जिसका एक हिस्सा इससे अलग हो जाएगा और सौर मंडल में नष्ट हो जाएगा। इस टक्कर के बाद गैसीय पदार्थों से बना शनि ग्रह क्षय होने लगेगा और आने वाले कई वर्षों के बाद नष्ट हो जाएगा। इसी तरह ड्रैगन का सिर या राहु नाम का एक और ग्रह इस टक्कर के बाद नष्ट और मृत हो जाएगा। यह सब इसलिए होगा क्योंकि इस दुनिया से अमृत हमारे सिर के साथ निकाला गया  है और हम भूत हैं जिनके सिर मरे हुए हैं। तब आबादी भूतों (पिशाचों) की होगी क्योंकि हम इस दुनिया के अस्तित्व में आने पर जैसे शुरू में पैदा हुए थे। जितने भी भूत मरे हुए हैं वो इस दुनिया से इस धरती से बाहर निकलेंगे और यहीं मरेंगे जब तक यहां से सभी मर नहीं जाते हैं तब सभी भगवान अपनी दुनिया से मर जाएंगे जैसे वे भी भूत और मृत के समान होंगे। इस दुनिया और इस दुनिया में जन्म लेने वाले हर भूत को खत्म करने में खरबों और खरबों साल लगेंगे। 

मैं अपने जीवन काल में प्रत्येक जीव में अमृत को उनके सिर के रूप में अपने साथ जोड़ूंगा और वे मेरे साथ और मेरे लिए हमेशा जीवित रूप में अमृत रहेंगे। इस तरह मैं सभी जीवों को अपने साथ जोड़ूंगा चाहे वे मनुष्य हों या इस दुनिया के भगवान हों और उनमें से उन भूतों को मार डालूंगा और उनमें से उनका सिर निकालकर वे स्वयं होंगे, जिसने उनमें अमृत पैदा किया था। मैं यहाँ पृथ्वी पर ऐसा करते हुए लगभग 100 वर्षों तक जीवित रहूंगा अर्थात सभी जीवित मनुष्यों और उनके सिरों को जीवित रूप में अमृत के रूप में अपने साथ जोड़ूंगा और उनमें सभी भूतों को बिना अमृत के उनके सिर के रूप में मार दूंगा जो वे स्वयं हैं। फिर मैं इस दुनिया के सभी भगवान के साथ ऊपरी दुनिया में अगले 5000 वर्षों के लिए करूँगा जहाँ सभी भगवान मौजूद हैं। इस कार्य के पूरा होने के बाद इस दुनिया के सभी प्राणियों के सिर से जीवित रूप में अमृत निकाल लिया जाता है और उन सिरों के साथ एक जीवित रूप में मेरे साथ एकजुट हो जाता है और इस दुनिया में केवल भूत रह जाते हैं जो जन्म से होते हैं और मर जाते हैं उनके सिर को मारकर। यह उन सभी जीवों के लिए किया जाता है जिन्होंने इस दुनिया में जन्म लिया है जिन्होंने कभी अपने सिर में अमृत पैदा किया है और यहां रहते हैं। इसके बाद मैं उस दुनिया में रहने आऊंगा जो इस दुनिया से ऊपर है और हमेशा के लिए अमर रहेगी। मेरे साथ सभी जीवित प्राणी अमृत के जीवित रूप में उनके सिर के साथ स्वयं के रूप में होंगे और मैं उनका एकमात्र भगवान होऊंगा जो उन्हें जीवन में लाया और हमेशा मेरी पूजा की जाएगी। यह इस दुनिया के विरोधाभास  में है जहाँ मेरी कहीं पूजा नहीं होती और ये मनुष्य और इस दुनिया के भगवान अपने सिर में जीवित रूप में खुद को अमृत नहीं मानते हैं और मुझे अपना एक भगवान नहीं मानते हैं जिन्होंने उन्हें जीवन दिया और इस दुनिया में लाये। मेरे ऊपरी दुनिया से चले जाने के बाद शीघ्र ही प्रलय घटित होगी और बची हुई दुनिया जो यहाँ आयी है, वह इस दुनिया से बहुत दिनों में जन्म लेते हुए मर जाएगी। और मैं ऊपर की दुनिया में जीवित रूप में सभी अमृत के साथ उपलब्ध रहूंगा जो मैंने उन्हें यहां उनके जीवन के लिए दिया था और इस दुनिया में जन्म लेने के बाद वापस ले लिया था। 

मेरे जन्म से पहले या जब मैं इस दुनिया में नहीं था तब इस दुनिया की उत्पत्ति ऊपर की दुनिया में सिर के रूप में हुई थी, जो आत्माएं थीं जिनके सिर में जीवित रूप में अमृत था जो उनके सिर से उत्पन्न हुआ था। लेकिन ऊपर की दुनिया में उनके बीच कुछ गलतफहमियों के कारण उन्होंने नीचे की दुनिया में शरीर के रूप में जन्म लिया जो मृत रूप में भूत (पिशाच) थे जिनके सिर में जहर था। उन्हें उनका सिर ऊपर की दुनिया से मिला, जिसे वे आत्मा कहते हैं और उनके सिर ने उनमें अमृत पैदा कर दिया जिसके कारण वे जीने लगे अन्यथा वे मर रहे थे, मृत प्राणियों के रूप में जन्म ले रहे थे और बिना उनकी किसी मुक्ति के साधन के भूत (पिशाच) का मृत जीवन जी रहे थे। ऐसे में उनके सिर में अमृत उत्पन्न हो गया और वे भूत बनकर रहने लगे और खुद को ऊपर की दुनिया से आने वाली आत्मा कहने लगे। अब उनके गलत कार्यों और दुर्व्यवहार के कारण वे अपने सिर के रूप में अपने आप से अमृत के जीवित रूप में निकाल दिए जाएंगे और यहां से इस दुनिया में मर जाएंगे और जल्द ही इस दुनिया का अंत हो जाएगा। इसके बारे में आपको आने वाले अनुच्छेद में पता चलेगा कि कैसे जीवन की उत्पत्ति ऊपर की दुनिया में हुई और फिर इसकी उत्पत्ति नीचे की दुनिया में हुई। और हम मनुष्य इस दुनिया में कैसे आए और इस दुनिया में भगवान कैसे आए। चूँकि जीवन की उत्पत्ति पहले ऊपर की दुनिया में आत्माओं के रूप में हुई थी और उनके सिर के रूप में जो अमृत का उत्पादन करते थे, इसलिए सिर की उत्पत्ति सबसे पहले अमृत के भगवान से हुई, जो हर जीवित प्राणी में जीवन या जीवन ऊर्जा के भगवान भी हैं। तो नीचे की दुनिया में जीवन भी अमृत के भगवान से उत्पन्न हुआ है जो इस दुनिया में हम सभी मनुष्यों और भगवानों के लिए भी एक भगवान है। 

हमारी दुनिया अकेली नहीं है यहाँ हमारी दुनिया के ऊपर एक स्वर्गीय राज्य है जो हमारी कल्पना से परे है। हम अपनी दुनिया में अकेले नहीं हैं ऊपर स्वर्गीय राज्य का एक शासक है जो हम सभी का राजा है। उसने हमें हमारे कर्मों के कारण जो भ्रष्ट और भ्रामक थे स्वर्गीय राज्य से इस भौतिक संसार में भेजा है। जब हमने ऊपर से इस भौतिक दुनिया में जन्म लिया तो यह दुनिया अस्तित्व में आई और हम अपने बारे में और ऊपर के स्वर्गीय राज्य के बारे में सब कुछ भूल गए। तब से हम ऐसे जी रहे हैं जैसे हम खुद को खो रहे हैं और मर रहे हैं और जल्द ही इस भौतिक दुनिया का अंत हो जाएगा। प्रारंभ में जब हमारी दुनिया नहीं थी तब स्वर्ग का राज्य ऊपर की दुनिया में मौजूद था। राजा स्वर्गीय राज्य का शासक था और स्त्रियाँ भगवान उसके प्रजा के लोग थे। वहाँ केवल राजा ही पुरुष था और भगवान सब स्त्रियाँ थे। स्वर्गीय राज्य इस दुनिया से ऊपर और इस दुनिया से बाहर एक पूरी तरह से अलग दुनिया थी। इस स्वर्गीय राज्य से नीचे की दुनिया में मनुष्य और पुरुष भगवानों के साथ अस्तित्व में आये हैं जैसा कि हम उन्हें जानते हैं। स्वर्गीय राज्य इस तरह अस्तित्व में आया कि सबसे पहले स्त्रियाँ भगवानों ने स्वयं को प्रकट किया और फिर राजा ने स्वयं को स्वर्गीय राज्य में प्रकट किया और इस तरह यह अस्तित्व में आया। स्त्रियाँ भगवानों ने राजा से उत्पन्न होने वाली उसकी रानियों में खुद को बदलने के लिए राजा के साथ एकजुट होने के लिए स्वर्गीय राज्य में अपने आपको प्रकट किया। इस प्रकार प्रत्येक स्त्री भगवान को एक रानी में बदलना पड़ता है और इसके बाद स्त्रियाँ भगवानों को स्वर्ग के राज्य से अपने अस्तित्व को त्यागना पड़ता है। इस प्रकार स्वर्गीय राज्य में राजा और उसकी सभी रानियाँ होंगी जिसके लिए वह राज्य अस्तित्व में आया है और अन्य सभी स्त्रियाँ भगवान वहाँ से चली जाएँगी। यह एक असाधारण स्वर्गीय राज्य था जो इस नीचे की दुनिया में हमारी समझ से परे था। लेकिन यह अचानक नहीं हुआ और इसमें काफी समय लग गया। चूंकि सभी स्त्रियाँ भगवानों को आपस में एकजुट होना है और आपस में एक स्त्री भगवान के रूप में बाहर आना है। लेकिन स्त्रियाँ भगवानों ने राजा के साथ एकजुट नहीं होने और स्वर्गीय राज्य को नहीं छोड़ने का फैसला किया। इससे रानियों को राजा से उत्पन्न नहीं होने दिया और स्त्रियाँ भगवानों को स्वर्गीय राज्य से खुद को त्यागने के लिए प्रेरित नहीं किया जा सका। इस प्रकार स्त्रियाँ भगवान राजा से प्यार करना चाहते थे और उन्होंने उसकी रानियों से राजा को वंचित कर दिया जो स्त्रियाँ भगवानों के उसके साथ एकजुट होने के बाद उससे निकलेंगी। यह जानने के बाद राजा ने सभी स्त्रियाँ भगवानों को अपने साथ स्वर्गीय राज्य से निकाल दिया और उन्होंने स्वर्ग के राज्य की अपनी सारी चेतना या स्मृति को खोकर नीचे की दुनिया में जन्म लिया।

एक स्त्री भगवान थी जो नहीं चाहती थी कि राजा अपनी रानी से मिले और वह अपनी रानी में बदलने के लिए राजा के साथ एकजुट नहीं हुई क्योंकि वह उससे प्यार करती थी और रानी के मिलने के बाद स्वर्गीय राज्य को त्त्यागकर राजा को छोड़ना नहीं चाहती थी। इसके कारण अन्य स्त्री भगवान भी राजा के साथ एकजुट नहीं हुई और उससे प्यार करने लगी और राजा और उसके स्वर्गीय राज्य को छोड़ना नहीं चाहतीं थीं। उस स्त्री भगवान को अन्य स्त्री भगवानों के साथ एकजुट होने में कोई दिलचस्पी नहीं थी और वह दूसरे के सिर को अपने सिर में बदलना चाहती थी ताकि वह अन्य स्त्री भगवानों के सिर के साथ एक अकेली स्त्री भगवान हो जो अकेले राजा से प्यार करेगी और उसे अपनी रानियों से मिलने नहीं देगी। जल्द ही हर स्त्री भगवान के साथ ऐसा ही हुआ और हर कोई एक दूसरे का सिर मारना चाहता था और राजा से प्यार करना चाहता था ताकि वह अपनी रानियों के साथ एकजुट न हो। लेकिन राजा को स्त्री भगवानों से प्यार नहीं था क्योंकि वे उसके जैसे नहीं थे और अपने कामों में शरारती थे जो एक दूसरे के सिर को मारने के लिए स्वर्गीय राज्य के नियमों के खिलाफ थे या राजा के साथ उसकी रानियों में बदलने के लिए एकजुट नहीं थे। तो राजा ने उस स्त्री भगवान को अन्य स्त्री भगवानों के साथ स्वर्गीय राज्य से अलग कर दिया और उसे अन्य लोगों के साथ इस भौतिक दुनिया में जन्म दिया जो स्वर्गीय राज्य के नीचे है। इसलिए उसने नीचे की दुनिया में एक सिर के साथ अवतार लिया और उसके भीतर अन्य सभी स्त्री भगवानों ने नीचे की दुनिया में अपने सिर के साथ अवतार लिया। राजा ने भी नीचे की दुनिया में अवतार लिया और सिर के रूप में आया और सब मनुष्यों और पुरुष भगवानों में सिर के रूप में अवतरित हुए जहां इन सिरों के शरीर नीचे की दुनिया में अस्तित्व में आए। हम सभी मनुष्य और इस दुनिया के पुरुष भगवान स्वर्गीय राज्य के स्त्री भगवानों और राजा से आए हैं और यहां तब तक रहेंगे जब तक हम मर नहीं जाते और इस दुनिया का अंत नहीं हो जाता। स्वर्गीय राज्य की ये स्त्रियाँ भगवान और कुछ नहीं बल्कि उनके रूप में आत्माएं हैं जिनका सिर राजा हैं, जो हमारे शरीर में जाने के लिए ऊपर की दुनिया से नीचे की दुनिया में अवतरित हुए, जो नीचे की दुनिया में अवतरित होने पर अस्तित्व में आए। नीचे की दुनिया में ये शरीर भूत (पिशाच) हैं क्योंकि वे अपने आप में मर चुके हैं और उन्हें बनाए रखने के लिए उन्हें एक आत्मा के साथ एकजुट होने की जरूरत है क्योंकि आत्मा ने अपने सिर में अमृत पैदा किया है जो शरीर को नीचे की दुनिया में आत्माओं के अवतार के बाद मिला है। ऊपर की दुनिया से राजा उन स्त्रियाँ भगवानों के साथ इस दुनिया में सिर, शरीर और मनुष्यों, पुरुष भगवानों के रूप में विघटित हो गया। सबसे पहले सिर की उत्पत्ति ऊपरी दुनिया में हुई, जहां से वे सभी सिर अस्तित्व में आए। तब शरीर की उत्पत्ति निचली दुनिया में हुई, जिससे वे सभी शरीर अस्तित्व में आए। तब मनुष्यों ने निचली दुनिया में शरीर बनाया जो संयुक्त रूप से ऊपरी दुनिया में पुरुष भगवानों का सिर बना। इस प्रकार इस दुनिया में पुरुष भगवानों को मस्तिष्क और मनुष्य को स्वप्न के रूप में जाना जाने लगा। स्वर्गीय राज्य से सभी स्त्रियाँ भगवान इस दुनिया में पुरुष भगवानों के रूप में पता लग गए, जिनसे मनुष्य पता लग गया स्वर्ग के राज्य की चेतना खोने के बाद। उन्होंने यहां सपनों (निचली दुनिया में शरीर वाले मनुष्य) और मस्तिष्क (ऊपरी दुनिया में सिर वाले पुरुष भगवान) के रूप में जन्म लिया। एकसाथ वे सपने और मस्तिष्क हैं इसलिए उन्हें इस दुनिया में मनुष्य और पुरुष भगवान कहा जाता है जोकि हम इस दुनिया में मौजूद हैं। 

और सपनों की उत्पत्ति हम सभी मनुष्यों के भीतर और मस्तिष्क की इस दुनिया के पुरुष भगवानों के भीतर हुई। इस प्रकार मनुष्य के शरीर के साथ स्वप्न, पुरुष भगवानों के मस्तिष्क के साथ ही अस्तित्व में आए। चूँकि स्वर्गीय राज्य से स्त्रियाँ भगवानों का इरादा राजा के साथ एकजुट होना नहीं था और उसे उसकी रानियों से वंचित करना था, इस दुनिया में मनुष्य और पुरुष भगवानों के रूप में अवतार लेने के बाद, उनके शरीर ने सिर में जहर पैदा करना शुरू कर दिया जो कि मनुष्य और पुरुष भगवान थे। इसका कारण यह है कि उनका सिर और शरीर इस निचली दुनिया से निकला था और यह निचली दुनिया पहले राजा या किसी भी जीवित प्राणी के बिना थी, इसलिए इसमें जहर के अलावा कुछ भी नहीं था। तब से मस्तिष्क और स्वप्न उनके सिर और शरीर के साथ अस्तित्व में आए जो ऊपरी दुनिया में पुरुष भगवान थे और निचली दुनिया में मनुष्य थे। जितने भी स्वप्न मस्तिष्क से उत्पन्न हुए, वे सब इस निचली दुनिया से उत्पन्न हुए, उन्होंने अपना सिर और शरीर जहर से भर लिया और इस प्रकार इस दुनिया में मनुष्य और पुरुष भगवान इस जहर को ढो रहे हैं जो अंत में अपने आप उनको समाप्त कर देगा। तब से मस्तिष्क और स्वप्न सिर और शरीर के रूप में जहर से भरी इस दुनिया में अस्तित्व में आए और हम मनुष्य और पुरुष भगवानों के रूप में इसके साथ पैदा हुए हैं। ये मनुष्य और पुरुष भगवान कुछ और नहीं बल्कि भूतों की तरह हैं इसका मतलब है कि हम जहर के कारण मरे हुए हैं। इस सिर और शरीर को भूत या पिशाच कहा जा सकता है क्योंकि यह जहर से भरा हुआ है और मरा हुआ है। हम स्त्री भगवानों को छोड़कर किसी भी जीवन रूप के बिना हैं, जिनसे हम यहां पैदा हुए हैं। चूंकि वे यहां सिर के रूप में अवतरित हुए हैं और उनके सिर में अमृत है जिसके कारण हम अपनी उत्पत्ति के बाद इतने सालों से जी रहे हैं। लेकिन इस निचली दुनिया में भरे हुए जहर के कारण इस दुनिया में भूत बच गया है। जैसे ही जहर यहां खत्म होगा हम खत्म हो जाएंगे क्योंकि जहर हमारे अस्तित्व के लिए उपलब्ध नहीं होगा। इसलिए सिर वाले पुरुष भगवान हम सभी के भीतर एक मस्तिष्क की तरह अस्तित्व में आए जो इस दुनिया में पाए जाने वाले उपलब्ध जहर को उत्पन्न करने और संग्रहीत करने में मदद करते हैं और हमें उस जहर को खिलाते हैं इसलिए हम मृत्यु के बाद भी उनके भीतर पाए जाते हैं और दूसरे जीवन में लाए जाते हैं एक और शरीर के रूप में जो फिर से जहर पर निर्भर है। अब समय आ गया है कि यह जहर समाप्त हो गया है और कोई नया शरीर या सिर नए जहर के साथ जन्म नहीं ले रहा है जिसमें कोई स्वप्न या मस्तिष्क पाया जाता है। साथ ही पुरुष भगवानों के ऊपरी दुनिया में सिर होने का कारण उसे पूरी तरह से निचली दुनिया में मनुष्यों के शरीर में उतरना है। इसका मतलब है कि सपने वाले सभी मस्तिष्क ने जन्म ले लिया है और नए सिर के साथ कोई नया शरीर अब जन्म नहीं लेगा। 

जब ऊपर की दुनिया की आत्माओं ने भूत (पिशाच) के रूप में नीचे की दुनिया में जन्म लिया, तो उन्हें एक भूत के 1 सिर में 3 सिर मिले और अन्य सभी भूत उनसे उत्पन्न हुए। चूंकि इस दुनिया को निचली दुनिया और ऊपरी दुनिया के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जहां ऊपर की दुनिया के सिरों ने इस दुनिया के शरीर के रूप में जन्म लिया है, इसलिए उन्हें 1 सिर में 3 सिर मिले। फिर ये 3 सिर अन्य 3 सिरों में पाए जाते हैं और इसी तरह इसे तब तक दोहराया जाता है जब तक कि सबसे ऊपर वाले एक सिर के भीतर नीचे के सारे सिर न मिल जाए। फिर इन 3 सिरों के अलावा एक और सिर है जो भूतों में पाया जाता है  जो उनमें अमृत उत्पन्न करता हैं जिसके कारण वे जीवित हैं और दूसरों के भीतर पाए जाते हैं जो उनके समान जीवित रूप में अमृत हैं। इसे अमृत सिर कहा जाता है और ये जीवित रूप में अमृत के साथ जीवित प्राणी हैं। अन्य 3 सिरों को ब्रह्म (बाएं) सिर या अल्लाह, शक्ति (केंद्र) सिर या महाविष्णु और प्राण (दाएं) सिर या शिव कहा जाता है जो इन सिरों से उत्पन्न होते हैं और इस दुनिया के जीवों में पाए जाते हैं। इन्हें इस दुनिया में भगवान कहा जाता है क्योंकि इनके भीतर मनुष्यों के अन्य सिर होते हैं। चौथा सिर अमृत सिर है जो उन्हें पूरा करता है और सभी जीवित मनुष्यों और इस दुनिया के भगवानों के भीतर पाया जाता है और इस प्रकार वे खुद को अजय भी कहते हैं जो अमृत के भगवान हैं और उनके भीतर जीवन है जो उनका सिर है जो उनमें अमृत पैदा कर रहा है और इसी के कारण वे जी रहे हैं। मनुष्य में 4 सिरों की यह संख्या उसके अंदर 16 शरीरों का एक संयोजन बनाती है जिसके कारण वह इस दुनिया में रह रहा है। यदि ये सभी शरीर मर जाते हैं तो वह मनुष्य भी मर जाएगा और उसकी मृत्यु के बाद किसी भी भगवान में नहीं मिलेगा। इसी तरह भगवानों के लिए 24 शरीरों का एक संयोजन है जिसके मरने पर वह इस दुनिया में नहीं मिलेगा। मैंने प्रत्येक सिर से अमृत निकालकर उस सिर को मार डाला है, इसलिए सभी शरीर मारे गए हैं। अब सभी भूत बचे हैं जो मर चुके हैं और जो जल्द ही मर जाएंगे। 

मेरे बारे में और जानें और हम सभी में मौजूद जीवित रूप में अमृत के बारे में मुझसे बात करें। इस दुनिया में होने वाली इस घटना के बारे में मेरे साथ बातचीत करते हुए अपने विचार साझा करने में आपको सुकून मिलेगा। मेरे Skype Id <ajaytomarindia@gmail.com> पर मेरे साथ चैट करने के बाद मुझे USD 70 (INR 5000) का भुगतान करें जब आप मेरे द्वारा यहां दी गई जानकारी से संतुष्ट हों। कृपया इस वेबसाइट की सेवाओं का लाभ उठाएं जहां आप मेरे साथ आने वाले दिनों में अपने विचारों और हमारे भाग्य के बारे में चर्चा कर सकते हैं। अधिक विवरण के लिए सर्विसेज पृष्ठ पर जाएं।